Home / International / फिर मुंह की खाएगा चीन, लाउडस्पीकर के जरिए भड़का रहा सैनिकों को

फिर मुंह की खाएगा चीन, लाउडस्पीकर के जरिए भड़का रहा सैनिकों को

लगता है चीन, अब जंग के मूड में है. सीमा पर उसकी हरकतें यही संकेत दे रही हैं। मैदान-ए-जंग में ड्रैगन लाउडस्पीकर लगाकर भारतीय सैनिकों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ भड़काने का काम कर रहा है. यही नहीं इन लाउडस्पीकरों पर पंजाबी गाने बजाए जा रहे हैं.

यह तो आपको मालूम ही है कि, पूर्वी लद्दाख में हजारों फुट ऊंची चोटियों पर चीन के नापाक मंसूबों को भारतीय सेना समय-समय पर मुंहतोड़ जवाब दे रही है पर, अब वह ऐसी हरकत क्यों कर रहा है, पंजाबी गानों के पीछे उसकी क्या चाल हो सकती है तो आइये, हम आपको बताते हैं.

दरअसल, भारत ने लद्दाख में अपनी पूरी तैयारी कर ली है. पूरे ठंड के मौसम का सैनिकों के लिए रसद, ड्रेस इत्यादि सामान पहुंचा दिया गया है. चीन इसी बात को लेकर बेचैन है, इसलिए वह इन लाउडस्पीककरों की मदद से भारतीय सैनिकों को उनके राजनीतिक नेतृत्व की चालाकियों को समझाने का प्रयास कर रहा है.

बता रहा है, इतने कड़ाके की ठंड में इतनी ऊंचाई पर उन्हें तैनात किए जाने की भारतीय नेताओं का फैसला निरथर्क है. चीन की रणनीति भारतीय सैनिकों के आत्म विश्वाेस को कमजोर करने और और सैनिकों के अंदर असंतोष पैदा करने की रही है. वह भारतीय सैनिकों को यह कहकर भी उकसाने का प्रयास कर रहा है कि वे (भारतीय सैनिक) कभी भी गरम खाना नहीं खा पाते हैं.

बताते हैं, 1962 के यु्द्ध में भी चीन न यही हरकत की थी. भारतीय सेना के एक पूर्व प्रमुख के अनुसार पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) ने 1962 के युद्ध में पश्चिमी और पूर्वी क्षेत्रों में और 1967 के नाथू ला झड़प के दौरान लाउडस्पीकर की रणनीति का इस्तेमाल किया था. फिंगर 4 पर पंजाबी गानों को बजते हुए सुनकर भारतीय सैनिक उलझन में पड़ गए.

पूर्व सेना प्रमुख ने कहा कि फिंगर 4 की ऊंची पहाड़ियों पर पंजाब के सैनिकों ने कमान हाथ में ले रखी थी. यह उसकी हजारों साल पुरानी रणनीति है. बताया जाता है कि, चीनी सेना के सैन्यु रणनीतिकार सुन जू ने छठवीं शताब्दीन ईसा पूर्व में अपनी बहुचर्चित किताब ‘आर्ट ऑफ वॉर’ में लिखा है कि सबसे अच्छा युद्ध कौशल वह होता है जो बिना लड़े ही जीत लिया जाए.

उन्हींी की रणनीति पर काम करते हुए चीनी सेना और ग्लो बल टाइम्सन जैसे कम्यु निस्ट़ पार्टी के मुखपत्र लद्दाख में भारतीय सैनिकों के खिलाफ मनोवैज्ञानिक युद्ध छेड़े हुए हैं.

आपको बता दें, 29-30 अगस्तद को पैंगोंग झील के दक्षिणी तट पर भारतीय सेना द्वारा चीनी सेना को करारी चोट मिली थी. इसके बाद चीनी सैनिक भारतीय जांबाजों को डराने के लिए बख्त रबंद गाड़ी लेकर आये थे. इसके बावजूद जब भारतीय सैनिक एक इंच भी नहीं हिले तो अब चीन ने नई चाल चली है.

चीनी सेना पैंगोंग झील के फिंगर 4 पर लाउडस्पीकर लगाकर पंजाबी गाने भी बजा रहे हैं क्योंकि, यहां सिख या फिर पंजाबी सैनिकों की पलटन तैनात है.ऐसे में चीनी सेना साईक्लोजिकल-प्रेशर के तहत इस तरह के गाने बजा रही है.

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

कमलनाथ के बयान से शिवराज का धरना हुआ शुरू

3 नवंबर को मध्य परदेश में 28 सीटों पर उपचुनाव होना है। ...