Home / Entertainment / शॉर्ट रन देने पर आईपीएल में मचा बवाल, प्रीति जिंटा सहित कई लोगों ने उठाई आवाज

शॉर्ट रन देने पर आईपीएल में मचा बवाल, प्रीति जिंटा सहित कई लोगों ने उठाई आवाज

आईपीएल क शुरू होते ही लोगों में क्रिकेट को लेकर क्रेज देखने को मिलता है ऐसे में अगर कोई थोड़ी सी भी गलती कर दे तो फिर सब का मूड खराब होता है कुछ ऐसा ही हुआ है शॉर्ट रन को लेकर.

किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाड़ियों ने दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ आईपीएल मैच के दौरान अहम समय पर मैदानी अंपायर नितिन मेनन के विवादित ‘शॉर्ट रन’ कॉल के खिलाफ अपील की है, जबकि पूर्व खिलाड़ियों ने सही नतीजों के लिए तकनीक के अधिक उपयोग की मांग की।

दरअसल मैच के सुपर ओवर में जाने से पहले टीवी फुटेज से पता चला कि स्क्वॉयर लेग अंपायर मेनन ने 19वें ओवर की तीसरी गेंद पर क्रिस जॉर्डन को ‘शॉर्ट रन’ के लिए टोका था। टीवी रिप्ले से हालांकि जाहिर था कि जॉर्डन ने जब पहला रन पूरा किया तब उनका बल्ला क्रीज के भीतर था। मेनन ने कहा कि जॉर्डन क्रीज तक नहीं पहुंचे हैं जिससे मयंक अग्रवाल और पंजाब के स्कोर में एक ही रन जोड़ा गया।

तकनीकी साक्ष्य होने के बावजूद फैसला नहीं बदला गया। आखिरी ओवर में पंजाब को 13 रन चाहिए थे और पहली तीन गेंद पर अग्रवाल ने 12 रन बना लिए थे। चौथी गेंद पर रन नहीं बना और अंतिम दो गेंदों पर पंजाब ने मयंक और जॉर्डन के रूप में दो विकेट गंवा दिए जिससे सुपरओवर की नौबत आ गई। सुपरओवर में दिल्ली को तीन रन का लक्ष्य मिला था जिसमें उसने जीत दर्ज की। यदि वह शॉर्ट रन नहीं दिया जाता तो पंजाब की टीम तीन गेंद पहले जीत जाती।

अब नहीं बदला जा सकता फैसला
अपील का हालांकि नतीजा निकलने की उम्मीद कम है क्योंकि आईपीएल नियम 2.12 (अंपायर के फैसले) के तहत अंपायर फैसले को तभी बदल सकता है जब ये बदलाव तुरंत किए जाएं। इसके अलावा अंपायर का फैसला अंतिम है।

सतीश मेनन, सीईओ किंग्स इलेवन पंजाब
हमने मैच रैफरी से अपील की है। इंसान से गलती हो सकती है लेकिन आईपीएल जैसे विश्व स्तरीय टूर्नामेंट में इसकी कोई जगह नहीं है। वह एक रन हमें प्लेऑफ से वंचित कर सकता है।

प्रीति जिंटा, सह-मालिक किंग्स इलेवन पंजाब
मैं हमेशा जीत या हार को खेल भावना के साथ स्वीकार करने में यकीन रखती हूं लेकिन नियमों में बदलाव की जरूरत ह्रै। जो बीत गया, सो बीत गया लेकिन भविष्य में ऐसा नहीं होना चाहिए..

वीरेंद्र सहवाग, पूर्व क्रिकेटर
मैं मैन ऑफ द मैच के फैसले से सहमत नहीं हूं। यह पुरस्कार तो अंपायर को दिया जाना चाहिए जिन्होंने शॉर्ट रन दिया। शॉर्ट रन नहीं था। यही अंतर रहा

टॉम मूडी, पूर्व क्रिकेटर ऑस्ट्रेलिया
तकनीक की मदद के लिए नियमों में बदलाव करना होगा। तीसरे अंपायर को फैसला लेना चाहिए था लेकिन नियम कहते हैं कि यह नियम टूर्नामेंट शुरू होने से पहले बनाया जाना चाहिए था

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

अफगानिस्तान के सलामी बल्लेबाज के निधन से खेल जगत में दुख का माहौल क्रिकेट बोर्ड ने ट्वीट कर कहीं यह बड़ी बात…..

साल 2020 के इस कोरोना काल में हर तरफ त्राहि-त्राहि का माहौल ...