Home National अमृत महोत्सव का उद्घाटन कर पीएम नरेंद्र मोदी ने जवाहर लाल नेहरू...

अमृत महोत्सव का उद्घाटन कर पीएम नरेंद्र मोदी ने जवाहर लाल नेहरू को भी किया याद, कहा- यह राष्ट्र जागरण का जश्न

Advertisements
Advertisements

पीएम नरेंद्र मोदी ने अहमदाबाद में आजादी की 75वीं वर्षगांठ के जश्न के लिए आयोजित हो रहे अमृत महोत्सव की शुरुआत की। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि अमृत महोत्सव की शुरुआत से पहले दिल्ली में अमृत वर्षा भी हुई है। वरुण देव ने आशीर्वाद दिया है। दांडी यात्रा की वर्षगांठ पर हम गांधी जी की कर्मस्थली पर हम इतिहास बनते देख रहे हैं। अमृत महोत्सव 15 अगस्त, 2022 से 75 सप्ताह पूर्व प्रारंभ हुआ है और 15 अगस्त, 2023 तक चलेगा।

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज एक राष्ट्र के रूप में भारत के लिए यह पवित्र अवसर है। अंडमान की सेल्युलर जेल, मुंबई का अगस्त क्रांति मैदान, यूपी का मेरठ, काकोरी और झांसी, पंजाब के जलियांवाला बाग समेत कितने ही स्थानों पर एक साथ इस महोत्सव का श्रीगणेश हो रहा है। मैं देश की आजादी के लिए संघर्ष करने वाली सभी विभूतियों को नमन करता हूं। महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। इस दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने दांडी मार्च को भी हरी झंडी दिखाई। यह यात्रा 1930 के महात्मा गांधी के दांडी मार्क के 386 किलोमीटर के रूट पर जाएगी और 6 अप्रैल को दांडी पहुंचेगी। आइए जानते हैं, इस मौके पर क्या बोले पीएम नरेंद्र मोदी…

दुनिया का दर्द दूर करने के लिए हम खुद को खपा रहे: आजादी के अमृत महोत्सव को भारत की आत्मनिर्भरता का उत्सव करार देते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि वैक्सीन के मामले में भारत की क्षमता का दुनिया को फायदा मिल रहा है। पीएम मोदी ने कहा कि हमने दुनिया में किसी को दर्द नहीं दिया है, लेकिन दुनिया के दर्द को खत्म करने के लिए हम खुद को खपा रहे हैं।

जवाहर लाल नेहरू को भी किया नमन: इस दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने 1857 के सेनानी मंगल पांडे, लक्ष्मीबाई तांत्या टोपे जैसे नायकों का भी नाम लिया। यही नहीं उन्होंने पंडित जवाहर लाल नेहरू, भीमराव आंबेडकर खान अब्दुल गफ्फार खान का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि हम आज नया भारत बनाने के लिए इनसे प्रेरणा ले रहे हैं। बता दें कि आजादी के 75 साल पूरे होने के जश्न में पंडित जवाहर लाल नेहरू को नजरअंदाज करने का आरोप कांग्रेस की ओर से लगाया गया था।

स्वतंत्रता सेनानियों से मिले अमृत का महोत्सव: बीते 75 वर्षों में एक-एक ईंट रखते हुए देश को यहां तक लाने वाले सभी लोगों के योगदान को मैं नमन करता हूं। किसी राष्ट्र का भविष्य तभी उज्ज्वल होता है, जब वह अपने अतीत के अनुभवों और विरासत के गर्व से पल-पल पर जुड़ा रहता है। भारत के पास तो गर्व करने के लिए अथाह भंडार है, समृद्ध इतिहास और चेतनामय सांस्कृतिक इतिहास है। आजादी के अमृत महोत्सव का अर्थ है, स्वतंत्रता सेनानियों से मिला अमृत। नए विचारों का अमृत और नए सपनों का अमृत है।

दांडी मार्च ने आजादी के आंदोलन से जन-जन को जोड़ा: यह महोत्सव वैश्विक शांति और राष्ट्र के विकास का महोत्सव है। इस महोत्सव की शुरुआत दांडी मार्च की वर्षगांठ के मौके पर हो रहा है। उस यात्रा को याद करने के लिए आज एक बार फिर से मार्च का आयोजन किया जाना है। पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि गांधी जी की इस एक यात्रा ने नई प्रेरणा के साथ आजादी के आंदोलन से जन-जन को जोड़ दिया था।

भारत में नमक का मतलब वफादारी है: हमारे यहां नमक को कभी उसकी कीमत से नहीं आंका गया। नमक का अर्थ हमारे यहां विश्वास, ईमानदारी और कर्तव्य से आंका गया है। उस दौर में नमक भारत की आत्मनिर्भरता का प्रतीक था, जिस पर अंग्रेजों ने चोट की थी। भारत के लोगों को इंग्लैंड से आने वाले नमक पर निर्भर होना पड़ रहा था और गांधीजी ने इस दर्द को समझतेे हुए आंदोलन की शुरुआत की।

सुभाष चंद्र बोस को भी किया याद: पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि इसी तरह आजादी की अलग-अलग घटनाओं की अपनी प्रेरणाएं हैं, जिनसे आज का भारत बहुत कुछ सीख सकता है। 1857 का स्वातंत्र्य समर, गांधी जी की भारत वापसी, सुभाष चंद्र बोस का नारा, अंग्रेजों भारत छोड़ो का उद्घोष समेत ऐसे कई पड़ाव हैं, जिनसे हम प्रेरणा और ऊर्जा लेते हैं। ऐसे कितने ही हुतात्मा सेनानी हैं, जिनके प्रति देश अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करता है। खासतौर पर सुभाष चंद्र बोस को याद करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि यह हमारा सौभाग्य है कि आजादी की 75वीं वर्षगांठ और सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती हमें एक साथ मनाने का मौका मिला है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

WATCH LIVE TV :

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments