spot_imgspot_img
HomeBusinessऐसे कर सकते हैं असली और नकली सोने की पहचान, हाॅलमार्किंग के...

ऐसे कर सकते हैं असली और नकली सोने की पहचान, हाॅलमार्किंग के नियमों में हुआ बदलाव

spot_img

हाॅलमार्किंग को लेकर सरकार ने नियमों में बड़ा बदलाव किया है। 16 जून से अब कोई भी बिना हाॅलमार्किंग के सोना नहीं बेच पाएगा। सोने के नाम पर हो रही धोखाधड़ी को रोकने के लिए सरकार की तरफ से नियमों में बदलाव किया गया है। आइए जानते हैं कि कैसे कोई भी व्यक्ति सोने की शुद्धता का पहचान कर सकता है।

क्या है हॉलमार्किंग
हॉलमार्क सरकारी गारंटी है। हॉलमार्क का निर्धारण भारत की एकमात्र एजेंसी ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड (बीआईएस) करती है। हॉलमार्किंग में किसी उत्पाद को तय मापदंडों पर प्रमाणित किया जाता है। भारत में बीआईएस वह संस्था है, जो उपभोक्ताओं को उपलब्ध कराए जा रहे गुणवत्ता स्तर की जांच करती है। सोने के सिक्के या गहने कोई भी सोने का आभूषण जो बीआईएस द्वारा हॉलमार्क किया गया है, उस पर बीआईएस का लोगो लगाना जरूरी है। इससे पता चलता है कि बीआईएस की लाइसेंस प्राप्त प्रयोगशालाओं में इसकी शुद्धता की जांच की गई है।

हॉलमार्क की पांच पहचान

असली हॉलमार्क पर बीआईएस का तिकोना निशान होता है
उस पर हॉलमार्किंग केन्द्र का लोगो होता है
सोने की शुद्धता भी लिखी होती है
ज्वैलरी निर्माण का वर्ष
उत्पादक का लोगो भी होता है
ऐसे करें शुद्धता की पहचान

24 कैरेट शुद्ध सोने पर 999 लिखा होता है
22 कैरेट की ज्वेलरी पर 916 लिखा होता है
21 कैरेट सोने की पहचान 875 लिखा होना
18 कैरेट की ज्वेलरी पर 750 लिखा होता है
14 कैरट ज्वेलरी पर 585 लिखा होता है

ज्यादा महंगी नहीं होती हॉलमार्क ज्वेलरी

जहॉलमार्क की वजह से ज्यादा महंगा होने के नाम पर ज्वैलर आपको बगैर हॉलमार्क वाली सस्ती ज्वेलरी की पेशकश करता है तो सावधान हो जाइए। विशेषज्ञों का का कहना है कि प्रति ज्वेलरी हॉलमार्क का खर्च महज 35 रुपये आता है। सोना खरीदते वक्त आप ऑथेंटिसिटी/प्योरिटी सर्टिफिकेट लेना न भूलें। सर्टिफिकेट में सोने की कैरेट गुणवत्ता भी जरूर चेक कर लें। साथ ही सोने की ज्वेलरी में लगे जेम स्टोन के लिए भी एक अलग सर्टिफिकेट जरूर लें।

क्यों जरूरी
उपभोक्ताओं को नकली उत्पादों से बचाने और कारोबार की निगरानी के लिए हॉलमार्किंग बेहद जरूरी है। हॉलमार्किंग का फायदा यह है कि जब आप इसे बेचने जाएंगे तो किसी तरह की डेप्रिसिएशन कॉस्ट नहीं काटी जाएगी यानी आपको सोने का वाजिब दाम मिलेगा। हॉलमार्किंग में उत्पाद कई चरणों में गुजरता है। ऐेसे में गुणवत्ता में किसी तरह की गड़बड़ी की गुंजाइश कर रहती है। साथ बाजार में सोने की खरीद-बिक्री पर नजर रखने में मददगार होता है। जरूरत पड़ने पर जांच एजेंसियां कई संस्थानों के आंकड़ों का मिलान कर गड़बड़ी का पता लगा सकती हैं।

spot_img
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments