Home Election बंगाल से असम तक जीत के लिए 'यूपी फॉर्मूले' पर चल रही...

बंगाल से असम तक जीत के लिए ‘यूपी फॉर्मूले’ पर चल रही BJP, मोदी-शाह की जोड़ी पर दारोमदार, देखें रैलियों का शेड्यूल

Advertisements
Advertisements

बंगाल से लेकर असम तक भाजपा का पूरा दारोमदार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह की जोड़ी पर ही है। पश्चिम बंगाल में टीएमसी सुप्रीमो ममता बनर्जी के खिलाफ सियासी संज में भारतीय जनता पार्टी ने अपनी पूरी प्लानिंग कर ली है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह के नेतृत्व में अगले सप्ताह से भाजपा की ताबड़तोड़ रैलियां शुरू हो रही हैं। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह पश्चिम बंगाल, असम और केरल के चुनाव वाले राज्यों में अगले सप्ताह से महीने के अंत तक बड़े पैमाने पर चुनाव प्रचार करेंगे। माना जा रहा है कि यूपी-कर्नाटक और बिहार के फॉर्मूले पर ही भाजपा चलेगी और अधिक सीटों को कवर करते हुए पीएम मोदी की ज्यादा से ज्यादा रैलियों को आयोजित करवाएगी।

समाचार एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पश्चिम बंगाल के पुरुलिया में 18 मार्च को, कोंताई में 20 मार्च को और बकुरा में 21 मार्च को चुनावी रैलियां करेंगे। वहीं, दूसरी ओर अमित शाह 14 और 15 मार्च को बंगाल और असम का दौरा करेंगे। इसके बाद अमित शाह 17 मार्च और 21 और 23 मार्च को असम में चुनावी रैलियां करेंगे। वहीं, बंगाल में वह 19, 26 और 27 मार्च को जनसभा को संबोधित करेंगे। इस बीच 24 और 25 मार्च को वह केरल की यात्रा पर जाएंगे, जहां वह चुनावी रैलियों को संबोधित करेंगे। 

अमित शाह के बंगाल दौरे की सबसे अहम बात यह है कि अपनी यात्रा के दौरान शाह पश्चिम बंगाल के 122 पार्टी कार्यकर्ताओं के परिवार के सदस्यों से मिलेंगे, जो भाजपा अध्यक्ष के तौर पर उनके कार्यकाल के दौरान मारे गए थे।

सूत्रों के मुताबिक, बंगाल में मुख्यमंत्री के चेहरे के बिना भाजपा वोटों के लिए मुख्य रूप से प्रधानमंत्री, गृह मंत्री और पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा पर निर्भर है। सूत्रों का यह भी दावा है कि रैलियों में पीएम की मौजूदगी पार्टी के प्रदर्शन को बेहतर बनाने में मदद करती है। भाजपा नेताओं का तर्क है कि पिछले साल हुए बिहार विधानसभा चुनावों के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने 12 रैलियों को संबोधित किया, जिसमें उन्होंने 100 से अधिक विधानसभा क्षेत्रों को कवर किया, जिससे पार्टी को बड़ी मदद मिली।

पार्टी सूत्रों के मुताबिक, कर्नाटक में पीएम मोदी 20 से अधिक रैलियां कीं। उत्तर प्रदेश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 110 निर्वाचन क्षेत्रों में 20 से अधिक रैलियों को संबोधित किया। इसलिए पश्चिम बंगाल में पीएम मोदी 20 से अधिक रैलियां करेंगे और असम में वह कुल छह रैलियां करेंगे। सूत्रों के अनुसार, मांग और जमीनी स्थिति के आधार पर प्रधानमंत्री द्वारा संबोधित होने वाली रैलियों की संख्या बढ़ सकती है।

पश्चिम बंगाल में भाजपा का मुकाबला ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस के साथ है। बंगाल में नंदीग्राम सीट पर सबकी नजरें हैं क्योंकि इस सीट पर ममता बनर्जी और शुभेंदु अधिकारी के बीच कड़ा मुकाबला है। बता दें कि बंगाल की तरह ही असम में भी भाजपा ने सीएम कैंडिडेट का ऐलान नहीं किया है और यहां भी पार्टी पीएम मोदी और अमित शाह की रैलियों के भरोसे है। 

यूपी में पीएम मोदी की रैलियों वाले इलाकों में 86 पर्सेंट था स्ट्राइक रेट

इससे पहले 2017 में यूपी में पीएम नरेंद्र मोदी ने करीब 20 से अधिक रैलियां की थीं और दो रोड शो में हिस्सा लिया था। इस तरह उन्होंने 403 सीटों में से 118 सीटों को कवर किया था। बीजेपी ने इन 118 सीटों में से 99 पर जीत हासिल की थी और उसकी सहयोगी पार्टी अपना दल को भी तीन सीटों पर जीत मिली थी। इस तरह पीएम मोदी की रैलियों वाले क्षेत्रों में पार्टी की जीत का स्ट्राइक रेट 86.4% था।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

WATCH LIVE TV :

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments