Wednesday, January 26, 2022
spot_imgspot_img
HomeStateबिहार में कोरोना का कहर जारी

बिहार में कोरोना का कहर जारी

spot_img

NMCH में 8 और मौतें, कैमूर नवोदय के प्राचार्य, PMCH से रिटायर्ड डॉक्टर
PU के HoD, स्कूलों के 3 संचालकों, उर्दू साहित्यकार, पत्रकार की भी जान गई

राजेश कुमार (पटना)

बिहार में कोरोना हर दिन कई जिंदगियों को लील रहा है। संक्रमित होने की संख्या और मौत की गिनती बढ़ती ही जा रही है। पटना के NMCH में 8 और संक्रमितों की मौत हो गई। इनमें 5 महिलाएं भी शामिल हैं। उधर, कैमूर के नवोदय विद्यालय के प्रिंसिपल राजेश कुमार सोनी की भी मौत हो गई। रविवार की सुबह BHU में उनका निधन हुआ। उधर, PMCH के एक रिटायर्ड डॉक्टर की बेड नहीं मिलने की वजह से मौत हो गई। पटना के बिशप स्कॉट स्कूल के मालिक शैलेश सिंह समेत प्रदेश में 3 स्कूल संचालकों की जान चली गई। उधर, मुंगेर में 3 की मौत के बाद स्वास्थ्यकर्मियों ने शवों की रैपिंग करने से मना कर दिया। PU में करीब 30 से ज्यादा कर्मचारी संक्रमित हो गए हैं। वहां के एक विभागाध्यक्ष प्रोफेसर डॉ. गोविंद कुमार की भी मौत हो गई है।

मैथली-रंगमंच के मशहूर अभिनेता, वरिष्ठ नाटककार और पटना हाईकोर्ट में सहायक निबंधक कुमार गगन का भी कोविड संक्रमित होने के बाद निधन हो गया। उन्होंने लगभग आधा दर्जन नाटकों, दो-तीन एकांकी, अनुदित नाटक व नाट्य रूपांतरण की भी रचना की थी। उधर बिहटा के BDO भी पॉजिटिव हो गए हैं।

BHU में निधन

नवोदय विद्यालय समिति के क्षेत्रीय उपायुक्त एम. मरियप्पन ने भास्कर को बताया कि कैमूर NV के प्राचार्य का रविवार सुबह बनारस के BHU में निधन हो गया। कोरोना था और ऑक्सीजन लेवल गिर गया था। नवोदय विद्यालय में अभी 12वीं के विद्यार्थी हॉस्टल में रह रहे हैं, जब तक इनके संबंध में मुख्यालय से कोई आदेश नहीं आ जाता। हालांकि, क्षेत्रीय उपायुक्त ने कहा कि बाहर के खतरे को देखते हुए बच्चों को हॉस्टल में रखा जा रहा है, लेकिन अगर कोई अभिभावक जरूरी कारण के साथ आते हैं तो उनके रिस्क पर जाने दिया जा सकता है।बेतिया में अधिवक्ता प्रभात वर्मा की कोरोना से मौत हो गई है। अगले 3 घंटे के भीतर बिहार में पाबंदियों को लेकर CM नीतीश कुमार फैसला ले सकते हैं।

बिशप स्कॉट स्कूल के मालिक की शैलेश सिंह की मौत।
बिशप स्कॉट स्कूल के मालिक की शैलेश सिंह की मौत।

तीन स्कूल संचालकों की मौत

शनिवार शाम से अब तक प्रदेश में तीन स्कूल के संचालकों की मौत हो गई है। पटना के बिशप स्कॉट स्कूल के मालिक की शैलेश सिंह की AIIMS में मौत हो गई। पूरे परिवार को ही कोरोना हो गया था। अन्य सदस्यों की हालत ठीक है। दरभंगा में इंडियन पब्लिक स्कूल के प्रिंसिपल इश्तियाक अहमद की जान चली गई है। आरा के एसएम मेमोरियल के संचालक की भी मौत हो गई है।कोरोना से मुंगेर में तीन लोगों की मौत हो गई है। दो मृतक असरगंज और एक हवेली खड़गपुर का है। तीनों मरीज की मौत के बाद स्वास्थ्यकर्मियों ने शव को रैपिंग करने से इनकार दिया। परिजनों को पीपीई किट देकर खुद रैपिंग करने का आदेश दे दिया। मामला तूल पकड़ा देख सिविल सर्जन ने हस्तक्षेप किया। इसके बाद टीम ने शव की रैपिंग की।

नहीं रहे डॉक्टर मोनाजिर

उर्दू साहित्य के मूर्धन्य साहित्यकार, अदीब एवम शायर डॉक्टर मोनाजिर आशिक हरगानवी का भी कोरोना से निधन हो गया। उन्होंने 300 किताबें संपादित की है। वे भागलपुर यूनिवर्सिटी में उर्दू विभाग में प्रोफेसर थे। वहीं से रिटायर हुए थे। उर्दू बाल साहित्य पर उन्हें अकादमी पुरस्कार भी मिल चुका है। अंगिका के लोकगीतों का उर्दू में उन्होंने अनुवाद किया था। दंगा पर लिखी उनकी कविता काफी चर्चा में आई थी। वहीं, मशहूर पत्रकार रियाज अजीमाबादी ने भी इस दुनिया को अलविदा कह दिया। उर्दू और हिंदी पत्रकारिता में उनका अहम योगदान रहा है। मुस्लिम सियासत को लेकर वे हमेशा चिंतित रहते थे। वाम विचारधारा से प्रभावित थे। सेहत खराब रहने के बावजूद सामाजिक कार्यों में लगे हुए रहते थे। उन्होंने ब्लिट्ज अखबार के बिहार प्रमुख की भी जिम्मेदारी संभाली थी।

रिकवरी रेट में गिरावट

7870 कोरोना के नए संक्रमित लोग पूरे बिहार में मिले हैं। अकेले पटना जिले में 1898 नए संक्रमित सामने आए हैं। शुक्रवार को आए आंकड़ों से एक दिन के भीतर 20.54% अधिक संक्रमित मिले हैं। वहीं, सिर्फ पटना में 11 लोगों की मौत हुई है। जबकि पूरे प्रदेश में 51 की जान गई है। लेकिन, स्वास्थ्य विभाग 34 लोगों की पुष्टि कर रहा है। तेजी से बढ़ती संक्रमण की रफ्तार से रिकवरी रेट तेजी से गिर रहा है। रविवार को 24 घंटे में इसमें 1.6% प्रतिशत गिरावट आई है।

सरकार का दावा हो रहा फेल

सरकार का दावा है कि संक्रमितों के लिए अस्पतालों में पर्याप्त बेड हैं और कहीं कोई समस्या नहीं है। इस दावे के इतर सरकारी अस्पताल पूरी तरह से फुल हैं। नए मरीजों के लिए कहीं कोई व्यवस्था नहीं हैं। प्राइवेट अस्पताल ऑक्सीजन नहीं होने के कारण मरीजों को वापस कर रहे हैं। ऐसे में गंभीर लक्षण वाले मरीजों को भी घर में रहना पड़ रहा है जो काफी खतरनाक है। ऐसे संक्रमितों की जान पर हमेशा खतरा बना रहता है।

NMCH में इनकी मौत

1. पटना की कुर्जी निवासी 67 साल की वृद्धा

2. जहानाबाद के छोटकी बनपुरा निवासी 35 साल का अधेड़

3. पटना के कंकड़बाग की 57 साल की वृद्धा

4. जमालपुर के खरीदपुर निवासी 48 साल के अधेड़

5. जमालपुर निवासी 61 साल की वृद्धा

6. आरा निवासी 32 साल की महिला

7. पटना के गरौल निवासी 75 साल के वृद्ध

8. पटना के कंकड़बाग निवासी 58 साल की वृद्धा

spot_img
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments