Wednesday, July 24, 2024

मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस कंज्‍यूमर ने खरीदी ‘पान पसंद’ टॉफी बनाने वाली कंपनी

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -

एशिया के सबसे अमीर व्यक्ति मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस कंज्‍यूमर ने एक और कंपनी का अधिग्रहण किया है. यह कंपनी कॉफी ब्रेक और पान पसंद टॉफी समेत कई प्रोडक्‍ट बेचती है. 82 साल पुरानी ये कंपनी पिछले कुछ समय से आर्थिक समस्‍या से जूझ रही थी. ऐसे में कंपनी ने रिलायंस कंज्‍यूमर   के साथ समझौता किया है. इससे पहले मुकेश अंबानी की कंपनी ने कोल्‍ड ड्रिंक बनाने वाली कंपनी कैम्‍पा को खरीदा था.

रिलायंस रिटेल वेंचर्स की FMCG कंपनी रिलायंस कंज्यूमर प्रॉडक्ट्स ने रावलगांव शुगर कंपनी के कनफेक्शनरी बिजनस को खरीदा है. इसे खरीदने ने के लिए 27 करोड़ रुपये में डील पूरी हुई है. इस डील में  ट्रेडमार्क्स, रेसिपीज और इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स मुकेश अंबानी  की कंपनी के पास आ चुके हैं.

1933 में शुरू हुई थी कंपनी

1933 में शुरू हुई थी कंपनी पान पसंद बनाने वाली कंपनी ने शुक्रवार को एक एक्सचेंज फाइलिंग में इस डील के बारे में जानकारी दी है. इस कंपनी की स्‍थापना कारोबारी वालचंद हीराचंद ने 1933 में महाराष्ट्र के नासिक जिले के रावलगांव गांव में की थी. 1942 में इस कंपनी ने रावलगांव नाम से टॉफी बनाना शुरू किया था. अभी इस कंपनी के पास मैंगो मूड, कॉफी ब्रेक, टूटी फ्रूटी, पान पसंद, चोको क्रीम और सुप्रीम जैसे ब्रांड हैं

बाजार में खो चुकी है हिस्‍सेदारी

बिजनेस टुडे के मुताबिक, रावलगांव शुगर कंपनी मौजूदा समय में संगठित और असंगठित दोनों क्षेत्रों में कम्‍पटीशन बढ़ने से बाजार में हिस्‍सेदारी खो दी है. साथ ही प्रभावी तरीके से काम करने की क्षमता के बिना कच्चे माल, ऊर्जा और श्रम की कीमतों में बढ़ोतरी के कारण कंपनी के प्रॉफिट पर असर हुआ है. वहीं कंपनी ने अभी तक अपने प्रोडक्‍ट के दाम में इजाफा नहीं किया है.

रिलायंस ने लॉन्‍च किया था ‘इंडिपेंडेंस’ ब्रांड

गौरतलब है कि रिलायंस इंडस्‍ट्रीज की रिटेल कंपनी ने इस महीने की शुरुआत में अपना उपभोक्‍ता पैकेज्‍ड सामान ब्रांड ‘इंडिपेंडेंस’ लॉन्‍च किया था. जबकि इससे पहले रिलायंस की इस कंपनी ने कैम्पा को खरीदा था.

 

आपका वोट

How Is My Site?

View Results

Loading ... Loading ...
यह भी पढ़े
Advertisements
Live TV
क्रिकेट लाइव
अन्य खबरे
Verified by MonsterInsights