Friday, June 14, 2024

हिमाचल कांग्रेस में अब तक सुलग रही है बगावत की आग

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
न्यूज़ डेस्क : (GBN24)

हिमाचल कांग्रेस में सबकुछ ठीक नहीं है. अभी भी अंदरखाने बगावत की आग सुलग रही है. कहा जा रहा है कि विधायकों की नाराजगी दूर नहीं हुई है और किसी भी वक्त सुक्खू सरकार को झटका दिया जा सकता है. सीएम सुखविंदर सिंह सुक्खू से विधायकों का एक बड़ा गुट नाराज है.

ऐसे में सरकार बचाना बड़ी चुनौती बनी हुई है. फिलहाल, यह लड़ाई दिल्ली तक पहुंच गई है, हिमाचल प्रदेश में बीते तीन दिन से राजनीतिक संकट देखने को मिल रहा था. हालांकि, मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू फिलहाल इस नाराजगी को दूर रखने में कामयाब रहे हैं. लेकिन, अभी भी खबरें आ रही हैं कि पार्टी के अंदर तनाव खत्म नहीं हुआ है. क्योंकि प्रदेश अध्यक्ष प्रतिभा सिंह और उनके बेटे विक्रमादित्य सिंह 6 अयोग्य कांग्रेस विधायकों के समर्थन में आ गए हैं. उन्होंने कार्रवाई पर निराशा जाहिर की है. इन विधायकों ने राज्यसभा चुनाव में बीजेपी के पक्ष में क्रॉस वोटिंग की थी.

प्रतिभा सिंह ने कहा, नाराज विधायक सिर्फ यही चाहते थे कि उनकी बात सुनी जाए. इस बीच, विक्रमादित्य सिंह अचानक चंडीगढ़ पहुंच गए और बागी विधायकों से मुलाकात की है. सरकार से नाराजगी के बीच विक्रमादित्य ने भी कैबिनेट मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था. बाद में हाईकमान से बातचीत होने पर इस्तीफा वापस लेने की बात कही थी.

सूत्र का कहना है कि गुरुवार को ऑब्जर्वर ने भले ही प्रतिभा सिंह और सीएम सुक्खू के साथ संयुक्त प्रेस वार्ता की. लेकिन, पार्टी के अंदर तनाव बरकरार है और सरकार बहुत कमजोर स्थिति में है. घटनाक्रम से जुड़े सूत्र ने बताया कि कई विधायक सुक्खू से नाखुश हैं और उन्हें हटाने की मांग करते आ रहे हैं.

इन विधायकों ने कुछ आरोप भी लगाए हैं. उनका कहना है की मुख्यमंत्री फाइलों को ट्रांसफर करने से इनकार करते हैं. ओछी राजनीति में संलिप्त रहते हैं. और जब विधायक काम के लिए संपर्क करते हैं तो वे उन्हें लंबे समय तक इंतजार कराते हैं और उनका अपमान करते हैं.मुख्यमंत्री प्रतिशोध की राजनीति में लिप्त रहते हैं. वे अपने ही निर्वाचन क्षेत्र में कांग्रेस विधायकों की संख्या कम कर रहे हैं.

पिछले एक साल में ऐसे कई मौके आए हैं, जब सुक्खू ने पार्टी के आदेशों की अवहेलना की है. सूत्र बताते हैं कि सुक्खू को खुली छूट मिली हुई है और वो विधायकों की तो बात ही छोड़िए, उन्होंने दिल्ली में कांग्रेस नेतृत्व की बात मानने से भी इनकार कर दिया है.

सीएम के खिलाफ लगातार शिकायतों के बाद कुछ महीने पहले दिल्ली में एक बड़ी बैठक हुई थी, जिसमें पार्टी अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे, पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, पार्टी महासचिव केसी वेणुगोपाल, सीएम सुक्खू और प्रदेश प्रभारी राजीव शुक्ला मौजूद थे. पार्टी नेतृत्व को इस बात से अवगत कराया गया कि पार्टी में गंभीर असंतोष चल रहा है.

विधायक सरकार के कामकाज से नाखुश हैं और बगावत की स्थिति पैदा हो रही है, जो सरकार को हिला सकती है.
फिलहाल, ऑब्जर्वर ने कोई फिजिकली रिपोर्ट पेश नहीं की है. संभावना है कि उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष को टेलीफोन पर पूरे घटनाक्रम की जानकारी दी है. हालांकि अंडरलाइनिंग फैक्ट यही है कि मामला हाथ से निकल चुका है और जब तक मौजूदा मुख्यमंत्री को नहीं बदला जाता, तब तक नाराजगी दूर करने की कवायद परवान चढ़ने की संभावना बेहद कम है.

आपका वोट

How Is My Site?

View Results

Loading ... Loading ...
यह भी पढ़े
Advertisements
Live TV
क्रिकेट लाइव
अन्य खबरे
Verified by MonsterInsights