Friday, June 14, 2024

Artificial Intelligence बना दुनिया के लिए बड़ा खतरा, मानव हो जाएंगे मशीनों से पीछे, गॉडफादर ने बताई अपनी चिंता

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -

न्यूज़ डेस्क : (GBN24)

Artificial Intelligence: AI एक तरफ विकास के नए रास्ते खोलने को तैयार है तो दूसरी तरफ पूरी दुनिया के लिए चिंता का सब बना हुआ है। महान वैज्ञानिक स्टीफन्स हॉकिन्स ने AI को एक बड़ा खतरा बताते हुए कहा था कि इंसान का विकास एक सीमित गति से होता है। वहीं Artificial Intelligence (AI) ऐसी तकनीक है जो कि खुद विकसित होने की क्षमता रखती है। इसकी कोई लिमिट नहीं है। ऐसे में मशीनें मानव से आगे हो जाएगीं और यह पूरी मानवता के लिए खतरा है।

खुद की बनाई तकनीकि पर जताई चिंता

Artificial Intelligence के जनक कहे जाने वाले ज्यॉफ्रे हिंटन ने खुद अपनी ही बनाई तकनीक पर चिंता जताते हुए कहा कि उन्हें इस बात का बढ़ा दुख है कि एआई (AI) की वजह से लोगों की नौकरियां जा रही हैं। उन्होंने कहा कि जीवन भर उन्हें इस बात का अफसोस रहेगा कि AI के साथ जुड़ा रहा और इतने समय तक काम किया।

क्या है Artificial Intelligence

Artificial Intelligence (AI) दुनिया की श्रेष्ठ तकनीकों में से एक है। यह दो शब्दों Artificial Intelligence (AI) और इंटेलिजेंस से मिलकर बनी है। इसका अर्थ है “बनावटी (कृत्रिम) तरीके से विकसित की गई बौद्धिक क्षमता । इस तकनीक की सहायता से ऐसा सिस्टम तैयार किया जा सकता है, जो मानव बुद्धिमत्ता के बराबर होगा। इस तकनीक के माध्यम से लाजिकल रीजनिंग, समस्या-समाधान,अल्गोरिदम सीखने, पहचानने, डिजिटल डेटा, भाषा प्रोसेसिंग, बायोइंफार्मेटिक्‍स तथा मशीन बायोलाजी को आसानी से समझा जा सकता है। इसके अलावा AI तकनीक खुद सोचने, समझने और कार्य करने में सक्षम है।

AI से समाज मे फैलेगी असमानता

एक इंटरव्यू के दौरान ज्यॉफ्रे हिंटन ने कहा कि इसको कोई रोक नहीं सकता था। अगर मैंने रोक दिया होता तो इसे कोई और कर देता। उन्होंने कहा कि इस युग में यूनिवर्सल बेसिक इनकम का रास्ता कारगर हो सकता है। Artificial Intelligence (AI) तकनीकि की वजह से जॉब मार्केट में हो रहे बदलाव के दौर में मैं कहना चाहता हूं कि यूनिवर्सल बेसिक इनकम एक अच्छा रास्ता है। और इससे ये फायदा है कि AI से प्रोडक्टिविटी बढ़ेगी और खूब पैसा बढ़ेगा लेकिन इससे समाज में असमानता बढ जाएगी। जिसकी वजह से बहुत सारे लोगों की नौकरियां जाएंगी और दूसरी तरफ बहुत सारे लोग बेहद अमीर हो जाएँगे। यह समाज के लिए बहुत बुरा है।

आने वाले समय के लिए (AI) एक बड़ी चुनौती

बता दें कि ज्यॉफ्रे हिंटन का जन्म लंदन में 6 दिसंबर 1947 को हुआ था। उन्होंने कैंब्रिट से एक्सपेरिमेंटल साइकॉलजी मेंग्रेजुएशन किया और इसके बाद आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के क्षेत्र में पीएचडी की। वह गूगल के साथ काम कर रहे थे लेकिन अब उन्होंने अपने पद सेइस्तीफा दे दिया है।उन्होंने कहा कि अगले पांच से 20 साल में ही एआई (AI) एक बड़ी चुनौती बन सकता है।

हिंटन ने पहले भी किया था आगाह

एक अन्य इंटरव्यू में ज्यॉफ्रे हिंटन ने कहा, “हमारे दिमाग में 100 ट्रिलियन कनेक्शन हैं, बड़े भाषा मॉडल में आधा ट्रिलियन, एक ट्रिलियन तक होता है। फिर भी GPT-4 एक व्यक्ति से सैकड़ों गुना अधिक जानता है। तो शायद यह वास्तव में हमसे बेहतर सीखने वाला एल्गोरिदम है।”
इसको लेकर हिंटन ने (AI) के बारे मे चेतावनी दी थी कि एआई जल्द ही बुद्धि के मामले में इंसानों से आगे निकल सकता है। उन्होंने यह भी कहा कि हमें मशीनों को मनुष्य से अधिक बुद्धिमान बनाने के संभावित परिणामों के बारे में गंभीरता से सोचने की आवश्यकता है।

आपका वोट

How Is My Site?

View Results

Loading ... Loading ...
यह भी पढ़े
Advertisements
Live TV
क्रिकेट लाइव
अन्य खबरे
Verified by MonsterInsights