Sunday, June 26, 2022
spot_imgspot_img
HomePolitical'घर जाकर, खाना बनाएं', सुप्रिया सुले पर महाराष्ट्र भाजपा अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल...

‘घर जाकर, खाना बनाएं’, सुप्रिया सुले पर महाराष्ट्र भाजपा अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल के बयान से मचा बवाल

spot_imgspot_img

महाराष्ट्र के बीजेपी चीफ चंद्रकांत पाटिल ने यह कहकर विवाद खड़ा कर दिया कि सुप्रिया सुले राजनीति में रहने की बजाय ‘घर जाकर खाना पकाएं।’ इस बयान पर एनसीपी ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है।

भाजपा की महाराष्ट्र यूनिट के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल के सुप्रिया सुले पर दिए बयान पर विवाद खड़ा हो गया है। पाटिल ने यह कहकर विवाद खड़ा कर दिया कि सुप्रिया सुले राजनीति में रहने की बजाय ‘घर जाकर खाना पकाएं।’ इस बयान पर एनसीपी ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। सुप्रिया सुले एनसीपी की सांसद हैं और पार्टी के मुखिया शरद पवार की बेटी हैं। पाटिल ने भाजपा की मुंबई इकाई की ओर से स्थानीय निकाय चुनावों में ओबीसी आरक्षण देने की मांग को लेकर किए जा रहे एक प्रदर्शन के दौरान बुधवार को यह टिप्पणी की थी।

आखिर क्या कहा था चंद्रकांत पाटिल ने

उच्चतम न्यायालय ने मध्य प्रदेश में स्थानीय निकाय के चुनावों में ओबीसी को आरक्षण देने की हाल में इजाज़त दे दी थी। इसके बाद सुले ने कहा था कि उन्होंने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की दिल्ली यात्रा के दौरान उनसे संपर्क किया था, लेकिन उन्होंने यह जानकारी नहीं दी कि आरक्षण के लिए मंजूरी हासिल करने के लिए उन्होंने क्या किया। महाराष्ट्र में शिवसेना के लीडरशिप वाली महा विकास आघाड़ी की गठबंधन सरकार है, जिसमें सुले की एनसीपी एक अहम घटक है। पाटिल ने बुधवार को भाजपा के प्रदर्शन के दौरान सुले पर निशाना साधते हुए कहा था, ‘आप (सुले) राजनीति में क्यों हैं, घर जाकर बस खाना बनाइए। दिल्ली जाइए या कब्रिस्तान में, लेकिन हमें ओबीसी आरक्षण दिला दें। लोकसभा सदस्य होने के बावजूद, आपको इसकी जानकारी कैसे नहीं है कि मुख्यमंत्री से मिलने का समय कैसे लिया जाता है।’

एनसीपी बोली- मनुस्मृति में यकीन रखते हैं पाटिल

पाटिल की टिप्पणी पर कड़ी आपत्ति जताते हुए एनसीपी की महिला शाखा ने उन पर हमला बोला है। प्रदेश अध्यक्ष विद्या चव्हाण ने पाटिल का नाम लिए बिना कहा कि एक व्यक्ति जिसने एक महिला विधायक का टिकट काट कर उनकी सीट से खुद चुनाव लड़ा, वह एक ऐसी सांसद का अपमान कर रहा हैं, जिन्हें दो बार (अच्छे प्रदर्शन के लिए) संसद रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। उन्होंने कहा, ‘हम जानते हैं कि आप मनुस्मृति में विश्वास करते हैं, लेकिन हम अब चुप नहीं रहेंगे।’ एनसीपी की नेता ने कहा, ‘उन्हें (पाटिल को) रोटी बनाना सीखना चाहिए, ताकि वह घर पर अपनी पत्नी की मदद कर

एनसीपी बोली- मनुस्मृति में यकीन रखते हैं पाटिल

पाटिल की टिप्पणी पर कड़ी आपत्ति जताते हुए एनसीपी की महिला शाखा ने उन पर हमला बोला है। प्रदेश अध्यक्ष विद्या चव्हाण ने पाटिल का नाम लिए बिना कहा कि एक व्यक्ति जिसने एक महिला विधायक का टिकट काट कर उनकी सीट से खुद चुनाव लड़ा, वह एक ऐसी सांसद का अपमान कर रहा हैं, जिन्हें दो बार (अच्छे प्रदर्शन के लिए) संसद रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। उन्होंने कहा, ‘हम जानते हैं कि आप मनुस्मृति में विश्वास करते हैं, लेकिन हम अब चुप नहीं रहेंगे।’ एनसीपी की नेता ने कहा, ‘उन्हें (पाटिल को) रोटी बनाना सीखना चाहिए, ताकि वह घर पर अपनी पत्नी की मदद कर

spot_imgspot_img
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_imgspot_img
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments