Tuesday, October 4, 2022
spot_imgspot_img
HomeVaransiवाराणसी में 345 करोड़ रुपये की लागत से बनेगा अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम,...

वाराणसी में 345 करोड़ रुपये की लागत से बनेगा अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम, BCCI भी करेगी मदद

spot_imgspot_img

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में 345 करोड़ रुपये की लागत से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम बनाने की योजना यूपीसीए बना रहा है। इसके लिए यूपी सरकार और BCCI मदद करेगी।

उत्तर प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन यानी यूपीसीए का एक बड़ा सपना जल्द साकार होने जा रहा है। देश के अलग-अलग राज्य क्रिकेट संघों की तरह अब यूपीसीए के पास भी अपना स्टेडियम में होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में एक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम बनने जा रहा है। इसके लिए उत्तर प्रदेश सरकार और भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड यानी बीसीसीआई यूपीसीए की मदद करेगी। 

वाराणसी में करीब 345 करोड़ रुपये की लागत से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम बनने वाला है। यूपी सरकार इसके लिए जमीन उपलब्ध करा रही है, जबकि उत्तर प्रदेश क्रिकेट संघ (यूपीसीए) इसका निर्माण कराएगा। बीसीसीआई हर राज्य क्रिकेट संघ को 80-90 करोड़ रुपये स्टेडियम के निर्माण पर सब्सिडी देती है और इस तरह यूपीसीए को भी बीसीसीआई की तरफ से इतनी रकम मिलेगी।  

बीसीसीआई के शीर्ष अधिकारी ने दैनिक जागरण से कहा कि सचिव जय शाह और उपाध्यक्ष राजीव शुक्ला ने रविवार को राजातालाब तहसील के गंजारी में चिन्हित जमीन को देखा था। बीसीसीआई और यूपीसीए को वह जमीन स्टेडियम के लिए उपयुक्त लगी है। जल्द ही वहां पर निर्माण की आधिकारिक घोषणा की जाएगी। पहले केंद्रीय खेल मंत्री और जय शाह बनारस में जमीन देखने आए थे, लेकिन वो जमीन पसंद नहीं आई थी। 

उत्तर प्रदेश के कानपुर में ग्रीन पार्क और लखनऊ में इकाना स्टेडियम है, लेकिन ये यूपीसीए का नहीं है। ग्रीन पार्क राज्य सरकार का है, जिसे यूपीसीए ने सरकार से लीज पर ले रखा है, जबकि इकाना पीपीपी (पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप) मॉडल पर बना है। यूपीसीए को जो भी मैच बीसीसीआई से मिलते हैं तो उनमें से टेस्ट मैचों का आयोजन कानपुर में और वनडे व टी20 मैचों का आयोजन इकाना स्टेडियम में किया जाता है। 

जैसे ही बनारस में यूपीसीए का खुद का स्टेडियम होगा तो अधिकतर मैच वहां आयोजित होने लगेंगे। बीसीसीआई अधिकारी ने कहा कि अभी हम वाराणसी में 30 से 35000 दर्शक क्षमता के स्टेडियम के बारे में सोच रहे
हैं, क्योंकि पूर्वी उत्तर प्रदेश में इससे ज्यादा क्षमता वाला स्टेडियम बनाना सही नहीं होगा।

spot_imgspot_img
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_imgspot_img
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments