Thursday, January 20, 2022
spot_imgspot_img
HomeWorldकोरोना से जंग में अफगानिस्तान की मदद को आगे आया भारत, 500,000...

कोरोना से जंग में अफगानिस्तान की मदद को आगे आया भारत, 500,000 कोविड-19 वैक्सीन कीं गिफ्ट

spot_img

भारत ने शनिवार को काबुल में इंदिरा गांधी चिल्ड्रन हॉस्पिटल को कोविड-19 टीकों की 500,000 खुराक दान कीं और आने वाले हफ्तों में अफगानिस्तान के लोगों के लिए मानवीय सहायता के हिस्से के रूप में 500,000 और टीके भेजने का वादा किया है। टीकों को ईरान की ‘महान एयर’ की उड़ान के माध्यम से काबुल भेजा गया था क्योंकि वर्तमान में भारत और अफगानिस्तान के बीच कोई सीधी उड़ान नहीं है। इससे पहले भी भारत ने इसी अस्पताल में 1.6 टन जीवन रक्षक दवाएं भेजी थीं, जिसकी तालिबान ने प्रशंसा की थी। विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, “आज, भारत ने अफगानिस्तान को कोविड-19 वैक्सीन (कोवैक्सिन) की 500,000 खुराक से युक्त मानवीय सहायता के अगले बैच की आपूर्ति की। इसे इंदिरा गांधी अस्पताल, काबुल को सौंप दिया गया।”

बयान में कहा गया है, “आने वाले हफ्तों में अतिरिक्त 500,000 खुराक की आपूर्ति की जाएगी।” 11 दिसंबर को, भारत सरकार ने काबुल में इंदिरा गांधी बाल स्वास्थ्य संस्थान को एक विशेष चार्टर उड़ान से 1.6 टन दवाएं भेजीं, जिसमें अफगानिस्तान के तालिबान के कब्जे के बाद भारत में फंसे 85 अफगान नागरिकों को भी भेजा गया था। इसी फ्लाइट से एक 104 लोग, जिनमें ज्यादातर अफगान सिख और हिंदू थे, काबुल से नई दिल्ली लाए थे।

शनिवार को दिए गए टीकों की तरह अन्य दवाएं विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के माध्यम से भेजी गईं। इसके अलावा अफगानिस्तान को पाकिस्तानी भूमि मार्गों के माध्यम से 50,000 टन गेहूं उपलब्ध कराने की भारत की पेशकश, पाकिस्तान द्वारा लगाई गई शर्तों के कारण रोक दी गई है। 3 दिसंबर को, पाकिस्तान ने कहा कि वह अफगान ट्रकों में वाघा लैंड बॉर्डर क्रॉसिंग के माध्यम से गेहूं और दवाओं को भेजने की अनुमति देगा, लेकिन अभी इसके तौर-तरीकों को अंतिम रूप देना बाकी है।

संयुक्त राष्ट्र एजेंसियों के संपर्क में भारत

विदेश मंत्रालय ने कहा कि भारत अफगान लोगों को खाद्यान्न, कोविड-19 टीकों की एक मिलियन खुराक और आवश्यक जीवन रक्षक दवाओं से युक्त मानवीय सहायता प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है। मंत्रालय ने कहा कि भारत आने वाले हफ्तों में गेहूं और शेष चिकित्सा सहायता की आपूर्ति करेगा। इस संबंध में, हम परिवहन के तौर-तरीकों को अंतिम रूप देने के लिए संयुक्त राष्ट्र एजेंसियों और अन्य लोगों के संपर्क में हैं।

spot_img
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments