Tuesday, October 4, 2022
spot_imgspot_img
HomeCrimeपहले बाजार बंद फिर लोग पथराव के लिए सड़क पर उतर गए,...

पहले बाजार बंद फिर लोग पथराव के लिए सड़क पर उतर गए, कानपुर हिंसा की 10 तस्वीरें

spot_imgspot_img

बेकनगंज में उपद्रव के दौरान लोग पुलिस के सामने बेकाबू थे। पथराव कर रहे थे। अब पुलिस के लिए सबसे बड़ा हथियार CCTV फुटेज और तस्वीरें हैं। इनके जरिए उपद्रव करने वालों की पहचान की जा रही है। पुलिस कमिश्नर विजय कुमार मीणा का दावा है कि उपद्रवियों को पहचान कर उनके खिलाफ गैंगस्टर एक्ट की कार्रवाई की जाएगी। उनकी संपत्तियां जब्त होंगी।

ये तस्वीर यतीमखाना बाजार की है। यहीं से पथराव शुरू हुआ था। सड़क पर फैले पत्थर हिंसा की गवाही दे रहे हैं।
हंगामा शुरू होने के कुछ देर बाद हजारों लोग सड़कों पर आ गए। इन्हें काबू करने के लिए पुलिस बल भी कम पड़ गया
मुस्लिम पक्ष के हमले के बाद हिंदुओं ने भी पत्थर फेंककर जवाब दिया, जिसके बाद हालात और बेकाबू हो गए।
दोनों पक्ष के लोगों में कुछ लोग चेहरा कवर किए हुए थे, इस वजह से उनकी पहचान नहीं हो पा रही है।
हंगामा कर रहे लोगों को जब पुलिस ने खदेड़ा तो वे गलियों में चले गए और वहीं से पुलिस और आम लोगों पर पत्थर फेंकने लगते।
हालात बेकाबू होते देख अफसरों ने पुलिस बल को गलियों में भी तैनात कर दिया। इसके बाद स्थिति संभली।
कानपुर की जिलाधिकारी भी हेलमेट पहनकर मौके पर पहुंचीं और फ्लैग मार्च में शामिल हुईं। इस दौरान बवालियों को खदेड़कर भगाया गया।
पुलिस ने बलवाइयों को काबू करने के लिए अभियान चलाकर पत्थर फेंकने वाले 18 लोगों को हिरासत में लिया है।


हंगामे के पहले कानपुर के बाजारों में ऐसे पोस्टर लगाकर मुस्लिम समाज के लोगों से व्यापार बंद रखने की अपील की गई थी।
बाजार बंद की अपील में नबी की शान में गुस्ताखी करने वालों के खिलाफ शांतिपूर्वक बाजार बंद करने की बात कही गई थी, लेकिन जब लोग बाजार बंद कराने निकले तो उग्र हो गए।

spot_imgspot_img
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_imgspot_img
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments