Friday, July 1, 2022
spot_imgspot_img
HomeElectionराष्ट्रपति चुनाव में 2 पर्सेंट वोट का जुगाड़ कैसे करेगी भाजपा, इन...

राष्ट्रपति चुनाव में 2 पर्सेंट वोट का जुगाड़ कैसे करेगी भाजपा, इन दलों से होगी उम्मीद; चेहरों पर कयास

spot_imgspot_img

केंद्र की सत्ता पर काबिज भाजपा की मजबूत स्थिति है, लेकिन विपक्ष को साधने की भी उसे जरूरत पड़ेगी। इसकी वजह यह है कि भाजपा के पास कुल 48.9 फीसदी वोट है और विपक्ष के पास 51.1 फीसदी वोट है। 

President Election News: राष्ट्रपति चुनाव के लिए निर्वाचन आयोग ने तारीख का ऐलान कर दिया है। 18 जुलाई को नए राष्ट्रपति के चयन के लिए मतदान होगा और जरूरी होने पर 21 जुलाई को गिनती की जाएगी। साफ है कि 21 जुलाई तक देश के नए राष्ट्रपति के नाम का ऐलान हो जाएगा। मौजूदा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कार्यकाल 24 जुलाई को समाप्त हो रहा है। देश के प्रथम नागरिक के चुनाव में यूं तो केंद्र की सत्ता पर काबिज भाजपा की मजबूत स्थिति है, लेकिन विपक्ष को साधने की भी उसे जरूरत पड़ेगी। इसकी वजह यह है कि भाजपा के पास कुल 48.9 फीसदी वोट है और विपक्ष के पास 51.1 फीसदी वोट है। 

ऐसे में भाजपा को 2.2 फीसदी के अंतर को खत्म करने के लिए विपक्षी खेमे में सेंध लगानी होगी और एकजुटता को कमजोर करना होगा। माना जा रहा है कि भाजपा ओडिशा की सत्ताधारी पार्टी बीजेडी और आंध्र प्रदेश की सरकार चला रही वाईएसआर कांग्रेस से मदद ले सकती है। इसके अलावा केसीआर की पार्टी टीआरएस से भी समर्थन मांग सकती है। हालांकि उन्होंने जिस तरह से भाजपा के खिलाफ देश भऱ में खेमेबंदी शुरू की है, उससे ऐसा नहीं लगता कि वह एनडीए उम्मीदवार का समर्थन करेंगे। ऐसे में राष्ट्रपति चुनाव में भले ही भाजपा मजबूत स्थिति में है, लेकिन दो फीसदी वोटों का गणित उसे सिरदर्द जरूर दे सकता है।

आदिवासी या मुस्लिम चेहरे पर दांव लगा सकती है भाजपा, नकवी पर भी कयास

कयास लगाए जा रहे हैं कि भाजपा की ओर से किसी आदिवासी महिला या फिर मुस्लिम उम्मीदवार को उतारा जा सकता है। आदिवासी महिला कैंडिडेट के लिए छत्तीसगढ़ की राज्यपाल अनुसुइया उइके और झारखंड की पूर्व राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू के नाम चल रहे हैं। उइके मध्य प्रदेश से हैं, मुर्मू ओडिशा के एक आदिवासी जिले मयूरभंज के रहने वाली हैं। इसके अलावा एक नाम पर तेजी से कयास लग रहे हैं, वह केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी का है। दरअसल मुख्तार अब्बास नकवी को भाजपा ने राज्यसभा चुनाव में नहीं उतारा है। इसके बाद उन्हें रामपुर के लोकसभा उपचुनाव में उतारने की चर्चा थी, लेकिन वह भी नहीं किया गया। ऐसे में अब चर्चा है कि उन्हें पार्टी राष्ट्रपति या फिर उपराष्ट्रपति बना सकती है।

spot_imgspot_img
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_imgspot_img
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments