Wednesday, May 29, 2024

Pakistan की सभी सरकारी कंपनियों की होगी नीलामी, Shahbaz सरकार ने की घोषणा

- Advertisement -

न्यूज़ डेस्क : (GBN24)

Pakistan सरकार ने सभी सरकारी कंपनियों को बेचने का फैसला किया है। लगातार आर्थिक संकट और IMF की कड़ी शर्तों से जूझ रहे Pakistan को प्रधानमंत्री Shahbaz Sharif ने प्राइवेटाइजेशन कमीशन की मीटिंग में मंगलवार को इसकी घोषणा की है। Shahbaz Sharif ने कहा ‘बिजनेस करना सरकार का काम नहीं है, सरकार का काम है देश में निवेश और बिजनेस के लिए अच्छा माहौल देना है।’

प्रधानमंत्री ने सभी मंत्रियों से अपील की है कि वो इस प्रक्रिया को आसान बनाने में प्राइवेटाइजेशन कमीशन का पूरा सहयोग करें। Pakistan के वित्त मंत्रालय के मुताबिक Pakistan के पास 88 सरकारी कंपनियां हैं।

Shahbaz Sharif ने कहा कि मुनाफा और घाटे की सभी सरकारी कंपनियों को बेचा जाएगा, मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सरकार सिर्फ उन कंपनियों को अपने पास रखेगी जो रणनीतिक रूप से अहम हैं।

कंपनियों की बोली टीवी पर लाइव दिखाया जाएगा

Shahbaz Sharif ने 12 मई को IMF की एडवांस टीम के Pakistan दौरे के बाद कंपनियों को बेचने की घोषणा की है। IMF की बैठक मे Pakistan के अधिकारियों ने लंबे वक्त के लिए बड़े लोन की मांग की थी। पिछले हफ्ते 24 कंपनियों की लिस्ट बनाई गई है प्रधानमंत्री Shahbaz Sharif ने कहा है कि कंपनियों को बेचने की प्रोसेस को पारदर्शिता से पूरा किया जाएगा। जिन्हें पहले फेज में बेचा जाएगा।

Pakistan की बिजली कंपनियों का भी होगा प्राइवेटाइजेशन

सबसे पहले Pakistan की इंटरनेशनल एयरलाइन कंपनी लिमिटेड की बोली लगेगी और उसे टीवी पर लाइव ब्रॉडकास्ट किया जाएगा। प्राइवेटाइजेशन के लिए Pakistan की बिजली कंपनियां भी शामिल हैं। Pakistan में कंपनियों को बेचने के प्रोग्राम को ‘प्राइवेटाइजेशन प्रोग्राम 2024-2029’ नाम दिया गया है। इस प्रोग्राम मे सबसे पहले उन कंपनियों को बेचा जाएगा जो घाटे में हैं। उनके बाद उन सरकारी कंपनियों को बेचा जाएगा जो मुनाफा कमाने वाली हैं।

IMF के दबाव में किया फैसला

न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक IMF के दबाव में आकर Pakistan ने सभी सरकारी कंपनियों को बेचने का फैसला किया है। Pakistan को इससे पहले IMF से 10 हजार करोड़ रुपए का पैकेज मिला था, तब भी शरीफ सरकार को कई कड़े फैसले लेने को कहा गया था। IMF ने सब्सिडी खत्म करने, ईंधन और बिजली 30% तक महंगी करने और टैक्स कलेक्शन 10% तक बढ़ाने की मांग की थी।

पहले ही बेची जा चुकी हैं एयरपोर्ट और बंदरगाह

Pakistan आर्थिक तंगहाली से लगातार जूझ रहा है और इससे बाहर निकलने की हर संभव कोशिश भी कर रहा है। ऐसे में Pakistan न सिर्फ सरकारी कंपनियां बल्कि अपने बंदरगाहों और एयरपोर्ट्स तक को बेंच चुका है।

बता दें कि Pakistan अपने सबसे बड़े कराची बंदरगाह को भी बेच चुका है। Pakistan ने पिछले साल सबसे बड़े कराची पोर्ट को लेकर UAE के साथ एक एग्रीमेंट साइन किया था। Pakistan सरकार ने ये डील 4 दिनों में फाइनल की थी। ये बंदरगाह करीब साढ़े 11 किलोमीटर लंबा है। यहां कुल 33 बर्थ हैं।

आपका वोट

How Is My Site?

View Results

Loading ... Loading ...
यह भी पढ़े
Advertisements
Live TV
क्रिकेट लाइव
अन्य खबरे