Friday, April 19, 2024

Sanjay Singh को Delhi Excise Scam केस में मिली जमानत

- Advertisement -

शुक्रिया शाही

न्यूज़ डेस्क : (GBN24)

आम आदमी पार्टी (AAP) के सीनियर नेता और राज्य सभा सदस्य संजय सिंह (Sanjay Singh) को उसके विवादित दिल्ली एक्साइज़ स्कैम (Delhi Excise Scam) केस में जमानत मिल गई है, जिसमें भ्रष्टाचार के आरोप थे। संजय सिंह ये तीसरे AAP नेता थे जिन्हें इस केस में गिरफ्तार किया गया था, पहले उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और AAP संचार प्रभारी विजय नायर के बाद। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी मामले में गिरफ्तार हो चुके थे।

कब और क्यों किया गया था संजय सिंह को गिरफ्तार?

संजय सिंह को 4 अक्टूबर, 2023 को दिल्ली के उत्तर एवेन्यू में उसके घर पर 10 घंटे की छानबीन के बाद गिरफ्तार किया गया था। ED के मुताबिक, सिंह एक “मुख्य षड्यंत्रकार” हैं इस विवादित घोटाले में, जिसमें दिल्ली में होलसेल शराब का व्यापार निजी यूनिटों को किकबैक मिलने के बदले में मिला था। इसके पहले क्रिमिनल क्लाइंट में, ED ने कहा था कि यह नीति, जो नवंबर 2021 में लागू हुई थी लेकिन जुलाई 2022 में रद्द हो गई थी, “जिम्मेदारीपूर्ण छेदों के साथ तैयार की गई थी” जो “पार्टी के नेताओं को लाभ पहुंचाने के लिए कार्टेल फॉर्मेशन को पीछे से बढ़ावा देती थी।”

आरोपों के अनुसार, इस भ्रष्टाचार की अप्राप्त धन की राशि कुल 292 करोड़ रुपये से अधिक थी, और इस पैसे का कुछ हिस्सा AAP ने अपने गोवा चुनाव में चुनाव प्रचार में इस्तेमाल किया था।

संजय सिंह के खिलाफ क्या विशेष आरोप थे?

अपने रिमांड एप्लीकेशन में, ED ने कहा था: “संजय सिंह ने शराब नीति (2021-22) घोटाले से उत्पन्न धन को लाभ प्राप्त किया और गैरकानूनी धन/ किकबैक (kickback) मिले हैं, वो शराब समूहों से किकबैक के लिए संविदान का हिस्सा बनने के षड्यंत्र में शामिल रहा है, उसका दिनेश अरोड़ा (Dinesh Arora) के साथ 2017 से क्लोज़ रिलेशनशिप है जैसा कि दिनेश अरोड़ा और उसकी कॉल रिकॉर्ड्स से पता चलता है।”

दिनेश अरोड़ा एक व्यापारी हैं जिन्होंने पहले से ही ED के अनुसार AAP और “दक्षिण समूह” के बीच “किकबैक के लिए एक पाइप” थे। ED ने दावा किया था कि अरोड़ा ने जांचकर्ताओं को बताया था कि उसने संजय सिंह के कहने पर कई रेस्टोरेंट मालिकों से बात की थी, और “आगाज़ की आने वाले चुनाव के लिए पार्टी फंड का संग्रह करने के लिए चेक्स का व्यवस्था की थी जिसमें 82 लाख रुपये थे।”

ED ने इसके अलावा आरोड़ा के खिलाफ यह भी आरोप लगाए थे कि उसने सिंग को 2 करोड़ रुपये की नकद राशि भी दी थी। अरोड़ा ने 2022 में एप्रोवर बनने के लिए CBI मामले में बचाव की थी। जुलाई 2023 में, अरोड़ा को ED ने गिरफ्तार किया था, लेकिन उसने फिर ED के मामले में एप्रोवर बन गए थे।

सिंह की जामानत की मांग पर 30 जनवरी को दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi HighCourt) के जवाब में, ED ने कहा था: “स्पष्ट है कि संजय सिंह ने ‘धन के प्रावधानों से उत्पन्न धन’ को धोखा देकर प्राप्त किया था जो उसे और उसके सह-षड्यंत्रियों द्वारा किए गए नए एवं पुराने एक्साइज पॉलिसी (Excise Policy) पर आधारित व्यवसाय के लाभ से उत्पन्न होता। सिंह ने फिर इस धन को प्राप्त, पोसेस, छिपाने, अप्रयोग और उसका उपयोग किया जो दिल्ली शराब घोटाले से उत्पन्न हुआ था जिसकी नीति काल 2021-2022 के दौरान थी।”

काफी प्रयासों और कोर्ट की सुनवाई के बाद, अब संजय अरोड़ा को बेल मिली है। सिंघवी (संजय सिंह के वकील अभिषेक मनु सिंघवी) बहस कर रहे थे जब जज ने कहा कि ईडी को बताना चाहिए कि आखिर एजेंसी ने AAP नेता की कोई संपत्ति क्यों नहीं कुर्क की? सुप्रीम कोर्ट ने पूछा कि संजय सिंह 6 महीने से जेल में हैं, अब और जेल में क्यों रखना चाहिए?

इसपर ईडी ने कहा कि उसे संजय सिंह को जमानत देने पर कोई ऐतराज नहीं है। सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा कि अगर आप (ईडी) जमानत का विरोध करेगी तो कोर्ट को PMLA के तहत जमानत पर विचार करना होगा।

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) PMLA कानून के सेक्शन 45 के तहत जमानत दे देती तो कह सकती थी कि AAP नेता संजय सिंह के खिलाफ प्रथम दृष्टया आरोप साबित नहीं होते। इससे ईडी का केस कमजोर हो जाता। इसलिए, ED ने फैसला किया कि वह जमानत का विरोध नहीं करेगी।

आपका वोट

How Is My Site?

View Results

Loading ... Loading ...
यह भी पढ़े
Advertisements
Live TV
क्रिकेट लाइव
अन्य खबरे