Thursday, July 25, 2024

हाथरस में सत्संग के दौरान भगदड़, 122 की मौत, 150 से ज्यादा लोग हुए घायल, जानिए क्या था मामला

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -

न्यूज़ डेस्क : (GBN24)

स्नेहा श्रीवास्तव

Hathras: उत्तर प्रदेश के हाथरस(Hathras) में भोले बाबा(Bhole Baba) के सत्संग के दौरान भागदौड़ मच गई. इसमें क़रीब 122 लोगों की मौत हो गई और 150 से अधिक लोग घायल हैं. कई लोगों की हालत गंभीर है. ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है की मृतकों की संख्या में बढ़ोतरी हो सकती है. हादसा Hathras जिले से 47 किमी दूर फुलरई गांव में हुआ है.अस्पताल के बाहर शव जमीन पर बिखरे पड़े हैं.

रिपोर्टर ने Hathras के सिकंद्राराऊ CHC में लाशों को गिना, यहां 95 लाशें बिखरी पड़ी हैं. वहीं, एटा के CMO उमेश त्रिपाठी ने बताया- हाथरस से अब तक 27 शव एटा लाए गए. इनमें 25 महिलाएं और 2 पुरुष हैं. सत्संग में 20 हजार से अधिक लोगों की भीड़ थी.

यूपी के Hathras में भोले बाबा के सत्संग के बाद हुई भगदड़ में अब तक 122 लोगों की मौत हुई है. रिपोर्ट्स के मुताबिक ऐसा बताया जा रहा है की 4 जिलों अलीगढ़, हाथरस, एटा और आगरा में रातभर शवों का पोस्टमॉर्टम हुआ. परिजन अपनों की लाश को लेकर इधर-उधर भटकते रहे. प्रशासन के द्वारा अब तक 121 मौत की पुष्टि की है. हादसा मंगलवार दोपहर 1 बजे फुलरई गांव में हुआ.

मंगलवार देर रात हादसे में 22 लोगों के खिलाफ सिकंदराराऊ थाने के दरोगा ने FIR दर्ज कराई.इसमें मुख्य आयोजक देव प्रकाश मधुकर का नाम है. बाकी सब अज्ञात हैं. चौंकाने वाली बात है कि इसमें मुख्य आरोपी भोले बाबा उर्फ हरि नारायण साकार का नाम ही नहीं है. हादसे के बाद से बाबा अंडरग्राउंड हो गया. पुलिस रातभर उसकी तलाश में छापेमारी करती रही.

पुलिस मैनपुरी में बाबा के आश्रम में पहुंची, लेकिन वहां भी बाबा नहीं मिला. मैनपुरी में आश्रम के बाहर पुलिस तैनात है. इधर, वकील गौरव द्विवेदी ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में PIL दायर करके हादसे की CBI जांच की मांग की है. सीएम योगी अधिकारियों से देर रात तक हादसे की रिपोर्ट लेते रहे. आज सुबह 11 बजे हाथरस के जिला अस्पताल पहुंचेंगे।

जानिए कैसे हुआ हादसा

Hathras जिले से 47 किमी दूर फुलरई गांव में चल रहे सत्संग के खतम होने के पश्चात महिलाएं भोले बाबा के चरण स्पर्श करके के लिए टूट पड़ी. भीड़ जब काबू से बहार हो गयी तो वालंटियर्स ने वाटर कैनन का इस्तेमाल किया जिसके बाद वहां भग धड़ मच गयी और लोग बचने के लिए एक दूसरे को रौंदते हुए आगे बढ़ने लगे. प्रशासन ने FIR के मुताबिक बताया की उन्होंने केवल 80 हज़ार लोगो की अनुमति दी थी पर सत्संग में ढाई लाख लोगो ने अपनी उपस्थिति दर्ज़ कराई .

जब लोगो की भीड़ सत्संग में दिखी तोह सेवादार गेट पर खड़े हो गए और उन्होंने लोगो को अंदर जाने से रोक दिया इसके बाद भीड़ खेतो की तरफ मुड़ गयी और नीचगे बैठे और झुके श्रद्धालुओं को कुचलते हुए निकली. उस दौरान प्रशासन और गेट पर खड़े सेवादार देखते रहे . साढ़े दस बजे लगभग सत्संग शुरू हो चूका था फिर उसके पश्चात दोपहर 1 बजे के करीब सतसंग अपने अंतिम चरण पर था उसी के कुछ समय बाद भगदड़ मचने लगी और लोग बचने के लिए एक दूसरे को कुचलते हुए निकल गए।

कौन है भोले बाबा

भोले बाबा का असली नाम सूरज पाल बताया जा रहा है वह युपी के ऐटा के निवासी है. सूत्रों के मुताबिक ऐसा बताया जा रहा है की वो लगभग 25 साल से सत्संग कर रहे है और वह यूपी के अलावा राजस्थान , हरियाणा में भी अनुयायी रह चुके हैं। हादसे पर प्रशासन की पहली रिपोर्ट सामने आयी उसमे उन्होंने पुरे मामले को विस्तारपूर्वक बताया उसमे लिखा है की 2 जुलाई को नेशनल हाईवे ─ 91 पर फुलराई गाऊँ मुगलगड़ी में नारायण साकार हरी का प्रवचन कार्यकम था.

नारायण साकार [भोले बाबा ] का प्रवचन था और पंडाल में लगभग 2 लाख से अधिक लोग मौजूद थे. रिपोर्ट में लिखा है की 1.40 बजे भोले बाबा पंडाल से निकलकर हाईवे ㅡ 91 पर ऐटा जाने के लिए आये। बच्चे ,महिला व पुरष समेत सभी भक्त उनको चरण स्पर्श करने पहुँचे और उनके पैरों की धुल को माथे से लगाने लगे.

भीड़ बाबा तक न पहुंच पाए, इसके लिए बाबा के निजी सुरक्षाकर्मी (ब्लैक कमाडो) और सेवादारों ने भीड़ के साथ धक्कामुक्की कर दूर हटाना शुरू कर दिया .इसमें कुछ लोग नीचे गिर गए. तब भी भीड़ नहीं मानी और अफरा- तफरी का माहौल हो गया. भीड़ राहत की सांस लेने के लिए कार्यक्रम स्थल के सामने खुले खेत की तरफ सड़क के दूसरी ओर भागी वहां सड़क से खेत की ओर उतरने के दौरान ढालनुमा जगह होने के कारण ज्यादातर लोग फिसल कर गिर गए.

इसके बाद वह उठ नहीं सके और भीड़ उनके ऊपर से होकर इधर-उधर भागने लगी। इसमें कई महिलाएं व पुरुष व बच्चे गंभीर रूप से घायल हो गए। मौके पर मौजूद राजस्व व पुलिस सुरक्षा कर्मियों द्वारा हताहत कर्मियों को एम्बुलेंस एवं मौके पर उपस्थित साधनों से घटनास्थल के आसपास स्थित अस्पतालों एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भिजवाया।

यूपी के मुख्यमंत्री पहुंचे हाथरस

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज सुबह 11 बजे हाथरस पहुंचे है. वहां सीएम योगी हाथरस के जिला अस्पताल गए और घायलों का हाल चाल जाने और अधिकारियों से बातचीत भी की।

इससे पहले सीएम योगी ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि, ये दुर्घटना अत्यंत दुखदः और हिर्दयविदारक है. अपराहन में तीन या साढ़े तेन बजे के अंदर ये घटना होती हुई दिखाई देती है. जनपद हाथनर्स के सिकंदराराव के अंदर ये पूरा हादसा घटित हुआ है.

वहां स्थानियो आयोजकों ने एक भोले बाबा के सत्संग आयोजित किया व स्थानियो लोगो द्वारा उसमे हिस्सा लिया गया.उस समय जब ये कार्यक्रम समाप्त हो चूका होता है तो बताया जा रहा है की जब प्रवचनकर्ता जब मंच से उतर कर जा रहे होते हैं.

तो भक्तों की भीड़ उन्हें स्पर्श करके एक साथ आ जाती है और सेवादारों के रोकने के बाद भी हादसा वहां घटित हुआ इस मामले की जांच के लिए हमलोगो ने एडिटशनल DG आगरा की अध्यक्ष्ता में मंडलायुक्त अलीगढ़ को शामिल करते हुए एक टीम बना कर के उन्हें विलंभ रिपोर्ट उपलब्ध करवाने के लिए कहा गया है.

आपका वोट

How Is My Site?

View Results

Loading ... Loading ...
यह भी पढ़े
Advertisements
Live TV
क्रिकेट लाइव
अन्य खबरे
Verified by MonsterInsights