कानपुर हिंसा के मुख्य आरोपी का PFI कनेक्शन:हयात जफर हाशमी के घर से चार संस्थाओं के दस्तावेज बरामद,

0
133

कानपुर में हिंसा के मुख्य आरोपी हयात जफर हाशमी के पापुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) से जुड़े होने के अहम साक्ष्य पुलिस के हाथ लगे हैं। आरोपी के घर से PFI से जुड़ी 4 संस्थाओं के दस्तावेज बरामद किए गए हैं। यह सभी दस्तावेज फंडिंग से संबंधित हैं। पुलिस ने इन सभी दस्तावेजों को अपने कब्जे में ले लिया है। इसके साथ ही मुख्य आरोपी और उसके संगठन से जुड़े लोगों का बैंक अकाउंट खंगाल रही है। जिससे ये पता लगाया जा सके कि संस्था को फंडिंग कहां से हो रही थी। हिंसा की साजिश के पीछे कौन-कौन लोग शामिल हैं। पुलिस हयात समेत अन्य आरोपियों को आज स्पेशल कोर्ट में पेश कर पूछताछ के लिए 15 दिनों की रिमांड मांग सकती है।

जांच में एसडीपीआई समेत इन चार संस्थाओं के नाम सामने आए

पुलिस की टीमों ने शनिवार रात को एमएमए जौहर फैंस एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष हयात जफर हाशमी के घर छापा मारा। उसके अलावा अन्य आरोपियों के घर भी पुलिस ने दबिश दी। वहां से कई अहम दस्तावेज जब्त किए। हयात के घर और उसके मोबाइल से जांच के दौरान एआईआईसी, आरआईएफ, सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (एसडीपीआई), कैंपस फ्रंट ऑफ इंडिया (सीएफआई) संस्था से संबंधित दस्तावेज मिले हैं। पीएफआई इन चारों संस्थाओं की फंडिंग करता है। यह बात कई एजेंसियों की जांच में साबित हो चुकी है। ये सभी दस्तावेज फंडिंग से संबंधित हैं।

इन दस्तावेजों में यह जानकारी दी गई है कि आखिर किस तरह से फंडिंग होती है और उसे किस तरह से बांटा जाता है। पुलिस को पूरी आशंका है कि हयात जफर हाशमी भी पीएफआई से जुड़ा हुआ था। इसकी संस्था को भी पीएफआई समेत अन्य जगह से फंडिंग की जा रही थी। पुलिस जल्द ही मामले की जांच पूरी होते ही बड़ा खुलासा करेगी।

शहर के कई नामी लोगों ने हिंसा भड़काने में की मदद

हयात जफर हाशमी के मोबाइल की जांच और पूछताछ में कई बड़े नाम सामने आए हैं। सभी लोग हयात जफर हाशमी को गुपचुप तरीके से सपोर्ट कर रहे थे। हिंसा भड़काने के लिए आर्थिक मदद भी कर रहे थे। पुलिस कमिश्नर विजय सिंह मीणा ने बताया कि अब इन सभी के खिलाफ साक्ष्य जुटाए जा रहे हैं। पर्याप्त साक्ष्य मिलते ही हयात जफर हाशमी की पर्दे के पीछे से मदद करने वालों के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी।

हिंसा के दौरान हयात जफर हाशमी की लोकेशन यतीमखाना के पास मिली

कानपुर में हिंसा भड़काने का मुख्य आरोपी एमएमए जौहर फैंस एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने भले ही पुलिस के सामने विरोध प्रदर्शन और जेल भरो आंदोलन वापस लेने की मांग की थी, लेकिन जमीनी हकीकत इसके बिल्कुल उलट है। जांच के दौरान सामने आया है कि हिंसा के दौरान हाशमी की लोकेशन यतीमखाना चौराहा के पास थी। इसके साथ ही हिंसा में शामिल जावेद व अन्य साजिशकर्ताओं की लोकेशन भी यतीमखाना के पास ही थी।

हयात जफर हाशिमी के खिलाफ अब तक 9 मुकदमें दर्ज
हयात जफर हाशिमी के ऊपर शहर के अलग – अलग थानों में गैंगस्टर और गुंडा एक्ट समेत अब तक 9 मुकदमें दर्ज हैं। सबसे ज्यादा केस सांप्रदायिक सद्भाव बिगाड़ने के मामले में हैं। अधिकांश मुकदमों में हयात पर चार्जशीट लगी है। आरोप है कि इसके बाद भी वह बिना किसी रोक टोक के शहर में खुलेआम घूमता रहा। पुलिस ने उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here